हाथरस में दलित महिला के सामूहिक बलात्कार और हत्या के खिलाफ महिला संगठनों ने जंतर-मंतर पर किया प्रदर्शन Women's organizations protest at Jantar Mantar



  • योगी आदित्यनाथ और उनकी सरकार के इस्तीफे की मांग की

  • अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति उत्पीड़न कानून के तहत सभी दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कदम उठाने की मांग की

                                                                     विशेष संवाददाता




नई दिल्ली। आज अलग-अलग महिला संगठनो द्वारा जंतर मंतर पर उत्तर प्रदेश के हाथरस के मामले को लेकर एक बड़ा विरोध प्रदर्शन किया गया। इस प्रदर्शन में 19 वर्षीय दलित महिला के बलात्कार और हत्या की घटना के विरोध में नारे लगाए गएद्य साथ ही इस मामले की जाँच में पुलिस की उदासीनता, दलित महिलाओं पर हो रही जाति-आधारित यौन हिंसा की बढ़ती घटनाएँ, देश भर में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधो की प्रवृत्ति, जातिवादी लैंगिक-हिंसा के मामले मे राज्य की उदासीनता और महिलाओं की गरिमा और अधिकारों के बचाव को लेकर मौजूदा शासन के दावों के खोखलेपन के खिलाफ महिला संगठनो ने अपना विरोध दर्ज किया।



पिछले हफ्ते हाथरस में हुई घटना महिलाओं के खिलाफ यौन अपराधों का नया प्रतीक बन गयी, जब एक दलित लड़की के साथ क्रूरतापूर्वक सामूहिक बलात्कार किया गया और गला घोंट कर उसे मार दिया गया। इस जघन्य अपराध के चलते पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। दिल्ली मे महिला संगठनों ने भी अपना आक्रोश दर्ज किया है, खासकर   पुलिस प्रशासन द्वारा लड़की के परिवार की अनुपस्थिति में पीड़ित के शरीर का अंतिम संस्कार किये जाने के मुद्दों के संदर्भ में अपना गुस्सा जाहिर किया। मीडिया से बात करने पर लड़की के परिवार को यूपी के अधिकारियों द्वारा दी जा रही धमकियों के खिलाफ भी महिला संगठनो ने अपनी आवाज उठाई। 

जंतर मंतर पर हुए इस विरोध प्रदर्शन में ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक वुमन ऑर्गनाइजेशन, , संघर्षशील महिला केंद्र, नेशनल फेडरेशन ऑफ इंडियन वुमेन, प्रगति महिला संगठन, पुरुगामी महिला संगठन, स्वास्तिक महिला समिति और सहेली आदि संगठनों के कार्यकर्ताओ ने हिस्सेदारी निभाई। विशेष रूप से, हाथरस की घटना से पहले ही दिल्ली के उपराज्यपाल और मुख्यंत्री को दिया गया । महिलाओं के चार सूत्रिय मागपत्र में जीवन-जीविका-जनवाद से जुड़े महत्वपूर्ण मांगो को शामिल है।


Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment