शांति निकेतन पब्लिक स्कूल में मनाया गया गांधी जी और शास्त्री जी का जन्मदिन Gandhiji and Shastri's birthday celebrated at Shanti Niketan Public School



                                                          सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो




साहिबाबाद। मोहन नगर स्थित शांति निकेतन पब्लिक स्कूल में आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और भारत रत्न लाल बहादुर शास्त्री का जन्मदिन सादगी के साथ मनाया गया। इस मौके पर कुछ छात्र और स्कूल के अध्यापकों ने पुष्प अर्पित कर दोनों को याद किया। 




कार्यक्रम को संबोधित करते हुए स्कूल प्रबंधक संजय त्रिपाठी ने कहा कि आज दोनों महपुरूषों की बार - बार हमें याद आती है। दोनों ने सादगी का जीवन जीते हुए देश की आजादी से लेकर विकास तक हमेशा प्रयत्नशील रहे। कुछ ऐसी ताकते हैं जो सत्य - अहिंसा के मार्ग पर चलने वाला इस देश में नफरत की बीजारोपण कर रहे हैं, जिनसे हमें सचेत रहना होगा और अपनी अगली पीढ़ी को भी सचेत करना होगा। जबसे इन महापुरूषों की जीवनियां और सीख को गुमराह करने की श्रेणी में बांट का हमारे सामने परोसा जाने लगा है, तब से देश में नफरत, अहिंसा और समाज को बिधटित करने की घटनाओं की बाढ़ सी आ गई है। इस पर मनन करना होगा और देश को विकासशील तथा आपसी भाईचारा, प्रेम और अहिंसा की पाठ अगली पीढ़ी को पढ़ाना होगा अन्यथा आज से भी बुरी परिस्थिति देखने के लिए हमें तैयार रहना होगा। आज विश्व महात्मा गांधी के उपदेशों व बताये मार्ग का अनुसरण कर रहा। उन पर विश्व की शिक्षण संस्थाओं में शोध हो रहे और हमारे देश में एक वर्ग उन पर टीका - टिप्पणी कर आत्मसंतुष्टी पा रहा। देश के पतन का मार्ग यही से शुरू होता है। उन्होंने बच्चों को गांधी और शास्त्री जी के बताये मार्ग पर चलने का आह्वाहन किया। 



स्कूल के अध्यक्ष राजनेन्द्र सिंह चैहान ने बच्चों को गुरू के प्रति समर्पित रहते हुए महापुरूषों के जीवन से प्रेरणा लेने की सीख दी। उन्होंने कहा कि बच्चें ही देश का भविष्य है इन्हें सही दिशा और मार्गदर्शन से तैयार करना है। 

इस मौके पर स्कूल के छात्र अमीत कुमार, राजा बाबू और गौरव कुमार ने महात्मा गांधी तथा लाल बहादुर शस्त्री के जीवनी को बताया। स्कूल के कार्यवाहक प्राधानाचार्य प्रदीप शर्मा ने भी छात्रों से महापुरूषों के कदमों पर चलने की सीख दी। कार्यक्रम को सफल बनाने में प्रदीप शर्मा, श्रीपाल सिंह का पूर्ण सहयोग रहा।  

Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment