वामदलों का दिल्ली में धरना प्रदर्शन Left parties protest demonstration in Delhi

                                                          शांतिदूत न्यूज नेटवर्क 





नयी दिल्ली । वामदलों ने गुरुवार को राजधानी में दिल्ली दंगों के विरोध में धरना प्रदर्शन आयोजित कर और मानव श्रृंखला बनाकर अपना विरोध प्रकट किया और दंगे की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की। इन दोनों में अपनी मांगों के समर्थन में गत पांच दिन में दिल्ली में करीब एक लाख पर्चे भी वितरित किए ।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) और अन्य वामपंथी पार्टियों मार्क्सवादी कमयुनिस्ट पार्टी (माकपा), आरएसपी, फॉरवर्ड ब्लॉक तथा माकपा(एम एल) ने आरोप लगाया कि गृह मंत्रालय एवं दिल्ली पुलिस ने उत्तरी पूर्वी दिल्ली में भाजप द्वारा पूर्व नियोजित दंगों की एकतरफा जांच की और दिल्ली सरकार ने इस पर चुप्पी लगाई जिसके विरोध में यह प्रदर्शन किया गया।

पर्चे में यह भी मांग की गयी दिल्ली सरकार इन दंगों की स्वंत्रत जांच समिति बनाये तथा दिल्ली पुलिस बुद्धिजीवियों, छात्रों और युवकों को एकतरफा जांच के तहत झूठे मामले बनाकर गिरफ्तार करना बंद करें ।

इसी विरोध के तहत आज भाकपा मुख्यालय अजय भवन के बाहर शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते हुए मानव श्रृंखला बनाई गयी। इसका नेतृत्व भाकपा के महासचिव डी. राजा और सचिव प्रोफेसर दिनेश वार्ष्णेय ने किया।

पार्टी महासचिव ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि गृह मंत्रालय और दिल्ली पुलिस जिस तरह से दिल्ली में हिंसा की साम्प्रदायिक दृष्टि से जांच कर रहे उस से को उनके पूर्वाग्रह का पता चल रहा है। उसे देखते हुए उसकी निष्पक्षता पर सवाल खड़े हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि सांप्रदायिक दृष्टि से दंगो की जांच तत्काल बन्द छोनी चाहिए और एक पृथक एजेंसी से इसकी जांच कराई जानी चाहिए।

इस अवसर पर श्री वार्ष्णेय ने भी इस दंगे की निष्पक्ष जांच के लिए लोगों को सरकार पर दबाव बनाने की अपील की। उन्होंने कहा कि दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने दिल्ली में हिंसा की घटनाओं पर अपनी रिपोर्ट दे दी है जिसमें उससे इन सवालों और पुलिस के बीच के सबूत के सबूत दिए हैं इसलिए जांच निष्पक्ष होनी चाहिए।


Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment