अयोध्या में विध्वंस मामले पर कल्याण सिंह ने खुशी जताई Kalyan Singh expressed happiness over the demolition case in Ayodhya




                                                  सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो 

                        कल्याण सिंह का फाइल फोटो।


साहिबाबाद। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं विवादित ढांचा विध्वंस मामले में मुख्य आरोपी कल्याण सिंह ने सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा 28 साल के बाद सभी आरोपियों को आरोपों से मुक्त कर दिये जाने के फैसले में खुशी जाहिर की है। 
         
कोरोना संक्रमण से ग्रसित पूर्व मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश कल्याण सिंह यहां कौशांबी स्थित यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में भर्ती है और उनका यहां उपचार चल रहा है। अयोध्या स्थित विवादित ढांचा (कथित बाबरी मस्जिद) के विध्वंस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा सुनाए गए निर्णय से अभिभूत पूर्व मुख्यमंत्री के पुत्र राजवीर सिंह ने अपनी प्रसन्नता व्यक्त की है तथा उन्होंने बताया कि इस फैसले से उनके पिता भी काफी खुश हैं। उन्होंने कहा कि सभी 32 आरोपियों को अदालत द्वारा बरी कर दिए जाने पर उन्होंने बहुत ही खुशी जाहिर की है। 6 दिसंबर 1992 में ढहाये गये एक विवादित ढांचे के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने आज इसमें फैसला सुनाया था। इस मामले में भाजपा के वरिष्ठ भाजपा नेता एवं यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह समेत 32 आरोपी थे जिन्हें 28 साल तक चली लंबी सुनवाई के बाद ढांचा विध्वंस के अपराधिक मामले में सभी को बरी कर दिया गया है।
        
अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डाॅ0 अनुज अग्रवाल ने बताया कि भाजपा नेता कल्याण सिंह की हालत स्थिर बनी हुई है तथा उनके स्वास्थ्य में लगातार सुधार हो रहा है। वही आज उनके अयोध्या मामले में बरी होने की सूचना आते ही उन्हें बहुत हर्ष का अनुभव हुआ और उनके पुत्र राजवीर सिंह ने उन्हें बधाई दी। यहां यह गौरतलब है कि कोरोना बीमारी से संक्रमित कल्याण सिंह यहां 16 सितंबर को उपचार के लिए भर्ती कराए गए थे। इस अवसर पर अस्पताल प्रबंधन की ओर से उनका इलाज कर रहे वरिष्ठ फेफड़ा रोग विशेषज्ञ प्रोफेसर डा.आरके मनी डॉक्टर केके पांडे, डॉ अनुज खन्ना, डॉक्टर एपी सिंह ने अस्पताल के अन्य स्टाफ कर्मियों के साथ उनसे मिलकर बधाई दी और मिठाई खिलाकर उनका अभिनंदन किया।



Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment