चोकी इंचार्ज को बर्खास्त करने की मांग की अधिवक्ताओं नेे Advocates demanded sacking of Choki Incharge



                                                        सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो 

                              एसपी देहात को मिल कर अपना विरोध व्यक्त करते अधिवक्तागण। 


साहिबाबाद । शालीमार गार्डन पुलिस चैकी के इंचार्ज अन्नु मलिक के खिलाफ गाजियाबाद बार एसोसिएशन के एक प्रतिनिधि मंडल  एसपी देहात से मिला और उनसे चैकी इंचार्ज शालीमार गार्डन को बर्खास्त करने तथा अधिवक्ता के साथ दुर्व्यवहार के मामले में आरोपी के खिलाफ विधिक कार्यवाही करने की मांग की है।
          
गौरतलब है कि बृहस्पतिवार को एक मामले की पैरवी करने गए गाजियाबाद बार एसोसिएशन के अधिवक्ता व शालीमार गार्डन की एक सोसायटी की आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष महकार कसाना के साथ पुलिस चैकी शालीमार गार्डन में एक व्यक्ति ने दुर्व्यवहार  किया था और उन्हें जान से मारने की धमकी दी थी। चैकी इंचार्ज के सामने हुई इस घटना के मामले में पुलिस की कार्रवाई से असंतुष्ट अधिवक्ता आज गाजियाबाद के एसएसपी से मिलने पहुंचे थे। जिनकी अनुपस्थिति में एसपी देहात नीरज जादौन से अधिवक्ताओं के एक शिष्टमंडल ने बातचीत की और उन्हें आवश्यक कार्यवाही का आश्वासन दिया। अधिवक्ताओं ने आरोप लगाया कि चैकी इंचार्ज अन्नू मलिक ने दूसरे पक्ष के योगेंद्र नागर से कथित रूप से 70हजार रुपये लेकर उसके खिलाफ कार्रवाई करने के बदले  मामूली सी धारा में उसका चालान कर दिया और अधिवक्ता की रिपोर्ट दर्ज नहीं की। जिससे वह आराम से जमानत पा गया। प्रतिनिधिमंडल ने पुलिस से  अधीक्षक देहात से चैकी इंचार्ज को बर्खास्त करने और कार्रवाई न करने  पर बड़े आंदोलन करने की चेतावनी दी है। एडवोकेट गौतम त्यागी ने पुलिस अधीक्षक को बताया कि अधिवक्ता महकार कसाना एक सम्मानित व्यक्ति है जो आए दिन समाज सेवा का कार्य करते रहते हैं और वे आरडब्ल्यू के अध्यक्ष भी हैं। उनके साथ इस तरह का व्यवहार कतई बर्दाश्त के काबिल नहीं है। 

प्रतिनिधि मंडल में मुख्य रूप से पूर्व बार एसोसिएशन अध्यक्ष नाहर सिंह यादव, मनमोहन शर्मा,फिरोज खान, कपिल शर्मा, गौरव पाल, सुनील कुमार उर्फ सोनू, प्रदीप बसोया, लोकेश, रिंकू प्रजापति, खुशनुमा, नितिन चंदेला, शशिकांत भाटी, रईस अहमद, आरिफचैधरी, सुमित अरोड़ा ,उमेश कसाना, पूर्व सचिव परविंदर नागर आदि अधिवक्ता थे। इस संबंध में एसपी देहात ने बताया कि वे पूरे प्रकरण की जांच कराकर उचित कार्रवाई करेंगे और जिस से पीड़ित सुनील कुमार विग के मामले में अधिवक्ता पुलिस चैकी गए थे उसकी शिकायत की जांच क्षेत्राधिकारी साहिबाबाद को सौंपी जायेगी। जांच उपरांत गुण दोष के आधार पर विधिक कार्वाई की जायेगी।




Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment