घाटी के भाजपा नेताओं में आतंकियों का खौफ, अब तक छह ने दिया पार्टी से इस्तीफा Terrorists fear among BJP leaders in the Valley


                                                         शांतिदूत न्यूज नेटवर्क 




श्रीनगर । जम्मू कश्मीर से धारा 370 के खत्म होने के बाद भाजपा घाटी में अपनी पकड़ बनाने में जुटी हुई है। लेकिन भाजपा के इस प्रयास को करारा झटका लगा है। दरअसल कश्मीर के बांदीपोरा जिले में भाजपा नेता शेख वसीम, उनके पिता वसीर अहमद और भाई उमर शेख की आतंकवादियों ने हत्या कर दी थी। आतंकवादियों की इस खौफनाक हरकत के बाद घाटी के भाजपा नेताओं में डर का माहौल है। इसी डर के कारण घाटी के 6 बड़े नेता पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं। यह कहा जा रहा है कि आतंकवादियों ने पहले ही वसीम को यह चेताया था कि अगर वह भाजपा नहीं छोड़ते हैं तो इसका उन्हें परिणाम भुगतना पड़ेगा और हुआ भी ऐसा भी।

इतना ही नहीं, पिछले बुधवार को आतंकियों ने सोपोर में भाजपा नेता मेहराजुद्दीन मल्ला को अगवा कर लिया था हालांकि बाद में उन्हें छुड़ा लिया गया। डर के कारण वीरवार को हंदवाड़ा में भाजपा की महिला इकाई की वरिष्ठ नेता मुबीना बानो और उसके बाद बशीर अहमद मलिक के ने इस्तीफा दे दिया। बशीर अहमद करीब 1 महीने पहले ही भाजपा से जुड़े थे। मुबीना बानो और बशीर अहमद मालिक  से पहले भारतीय जनता युवा मोर्चा की 12 महिला इकाई के प्रधान मारूफ बट ने भी अपने इस्तीफे का ऐलान कर दिया था। कुपवाड़ा में आसिफ अहमद ने भी भाजपा से अपना नाता तोड़ लिया है। 

घाटी के भाजपा नेताओं को लगातार आतंकियों की तरफ से धमकियां दी जा रही है। यही कारण है कि भाजपा नेताओं में खौफ है। उधर पुलिस ने भी भाजपा नेताओं पर आतंकी हमले का अलर्ट जारी करते हुए सतर्क रहने की सलाह दी है। कश्मीर में राष्ट्रवाद के रास्ते पर चल रहे लोग आतंकियों के निशाने पर है। 5 अगस्त तक आतंकी और भी सक्रिय रह सकते हैं क्योंकि 5 अगस्त को ही कश्मीर से धारा 370 हटाया गया था। पिछले एक सप्ताह में वादी में भाजपा नेताओं पर आतंकी हमले व अपहरण के मामले भी बढ़े हैं। भाजपा प्रवक्ता अल्ताफ ठाकुर को भी अलर्ट जारी कर दिया गया है पार्टी की ओर से भी भाजपा नेताओं को सुरक्षा देने की मांग लगातार उठ रही है। भाजपा महासचिव राम माधव, केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह और अन्य नेता पार्टी की बांदीपुरा जिला इकाई के प्रमुख वसीम बारी के घर गये थे। 

माधव ने कश्मीर घाटी में पार्टी कार्यकर्ताओं के लिये पर्याप्त सुरक्षा और इन हत्याओं के लिये जिम्मेदार लेागों के खिलाफ शीघ्र कार्रवाई की मांग की थी। माधव ने कहा था कि हम यहां उनके (बारी के) परिवार के प्रति संवेदना प्रकट करने और उन्हें कुछ मदद करने आये हैं। देश के सभी भाजपा नेता इस मुश्किल घड़ी में उनके परिवार के साथ हैं। कश्मीर के बांदीपोरा में भाजपा के एक नेता की हत्या पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि यह भी आतंकवादियों द्वारा निराशा में किया गया कार्य है। उन्होंने कहा कि भागते फिर रहे आतंकवादी निराशा में कमजोर लोगों को निशाना बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि जम्मू और कश्मीर में आतंकवाद के 30 साल के इतिहास का यह अंतिम अध्याय है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद से सर्वाधिक प्रभावित जिले डोडा और किश्तवाड़ अब आतंक से मुक्त हो चुके हैं। 


Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment