डा0 अम्बेदकर जन कल्याण परिषद् के संरक्षक के परिनिर्चाण दिवस पर ‘ स्मृति सभा का आयोजन 'Smriti Sabha' organized on the Day of Inauguration


                                                    सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो 



साहिबाबाद । डा0 भीमराव अम्बेदकर पार्क लाजपत नगर जी टी रोड साहिबाबाद के प्रांगण में डा0  अम्बेदकर जन कल्याण परिषद् उत्तर प्रदेश द्वारा सामाजिक कार्यकर्ता संस्था के संरक्षक श्रद्धेय सुमेर सिंह जी के परिनिर्वाण दिवस पर “स्मृति सभा” का आयोजन, वैश्विक महामारी कोरोना के कारण सामाजिक दूरी का ध्यान रखते हुए किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष लक्ष्मन प्रसाद ने किया।

संस्था के अध्यक्ष लक्ष्मण प्रसाद ने चाचा सुमेर सिंह के द्वारा समाज हित में किये गये कार्यों की सराहना करते हुए लोगों को बताया। सभी उपस्थित संघ के साथियों ने “भगवान बुद्ध” की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते हुए सुमेर सिंह जी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें याद किया। संघ में दो मिनट का मौन धारण कर उन्हें याद किया गया तथा बुद्ध की वन्दना की गयी। 
    

स्मृति सभा में मौजूद मुख्य वक्ता राम दुलार यादव ने कहा कि चाचा के नाम से चर्चित सुमेर सिंह में समाज के प्रति अपार प्रेम था। वे जाति धर्म से ऊपर रहकर लोगों के कल्याण में लगे रहते थे। डा0 अम्बेदकर पार्क बनवाने में उनका बड़ा योगदान था। गाँव मटौर, मेरठ से चलकर श्याम पार्क मेन, स्वरुप पार्क साहिबाबाद में सेवा और त्याग के बल पर उन्होंने हर वर्ग में सम्मान जनक स्थान बनाया। मृदुभाषी, मिलनसार, सभी के दुःख-दर्द को अपना समझा तथा जितना निवारण हो सकता प्रयासरत रहे। बीमार को अस्पताल ले जाना, लोगों को शिक्षा व व्यवसाय के लिए प्रेरित करना उनका स्वाभाव था। चाचा सुमेर सिंह की सबसे बड़ी विशेषता यह थी कि वे जिसके साथ रहते थे तन, मन, धन से रहते थे। वे एक साधारण परिवार मे पैदा हुए लेकिन आर्थिक क्षेत्र में असाधारण कार्य किया। हमें उनके जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए तथा समाज में सद्भाव, भाईचारा, प्रेम और सहयोग से रहना चाहिए। हम चचा सुमेर सिंह को स्मरण कर गौरव का अनुभव कर रहे हैं कि हम सभी उनके व्यवहार से शिक्षा लेकर लोगों की सेवा करेंगें। भगवान बुद्ध के चरणों में नमन करते हुए, प्रार्थना करते सुमेर सिंह को “बुद्धं शरणं गच्छामि” परिनिर्वाण प्राप्त हो।
   
स्मृति सभा में ओम पाल सिंह, हरेन्द्र पाल, राज कुमार सिंह, जगन्नाथ प्रसाद, श्याम नारायण, ऋषिकेश, जय प्रकाश, संजीव कुमार, मृत्युंजय, विजय कुमार भाष्कर, अजय कुमार, नन्द किशोर, मुंशी राम, राम लाल, जयपाल सिंह, संजीव लौहरिया, अर्जुन प्रसाद, मूल चन्द, बैजनाथ रजक, ओम प्रकाश गौतम, राज कुमार लौहरिया, परम हंस, मंगल देव, सचिन कुमार, राकेश कुमार, राम दुलार यादव, मनीष लौहरिया, विनोद लौहरिया, मनोज लौहरिया, अमर बहादुर आदि शामिल रहे।




Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment