आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान का हुआ शुभारंभ Self-reliant Uttar Pradesh Employment Campaign launched





  • जनपद में एक जनपद एक उत्पाद योजना के तहत 18 लाभार्थियों को धनराशि रु0 3.48 करोड़ का ऋण वितरण किया गया


                                                           सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो 

गाजियाबाद। माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार द्वारा आज आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान का शुभारंभ किया गया। उक्त कार्यक्रम में माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश श्री योगी आदित्यनाथ, माननीय औद्योगिक विकास मंत्री, श्री सतीश महाना तथा सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन, श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह सहित मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन श्री राजेंद्र कुमार तिवारी तथा अपर मुख्य सचिव, एमएसएमई तथा निर्यात प्रोत्साहन श्री नवनीत सहगल उपस्थित रहे। उक्त कार्यक्रम ऑनलाइन प्रदेश के समस्त जनपदों में संपादित किया गया एवं प्रदेश के सभी जनपदों में केंद्र तथा राज्य सरकार द्वारा प्रायोजित प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना तथा एक जनपद एक उत्पाद वित्त पोषण योजना के लाभार्थियों को प्रमाण पत्र वितरित किए गए। इसी प्रकार एक जनपद एक उत्पाद प्रशिक्षण योजना तथा विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के लाभार्थियों को भी टूल किट वितरित की गई। 


इसी क्रम में जनपद गाजियाबाद में भी उक्त कार्यक्रम का ऑनलाइन आयोजन किया गया, जिसमें जिलाधिकारी कार्यालय परिसर में स्थापित एनआईसी में समस्त लाभार्थियों की उपस्थिति रही एवं माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार एवं माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश शासन के संबोधन का प्रसारण किया गया। इस अवसर  पर जनपद गाजियाबाद में प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना अंतर्गत तथा एक जनपद एक उत्पाद योजना के कुल  18 लाभार्थियों को धनराशि रु0 3.48 करोड़ का ऋण वितरण किया गया। इस अवसर पर कोविड-19 के दौरान बैंकों द्वारा एमएसएमई सेक्टर को दिए जाने वाले ऋण की घोषणा भी की गई, जिसमें जनपद 4791 इकाइयों को रु 311 करोड़ का ऋण वितरण किया गया। उक्त कार्यक्रम में जनपद में आए हुए प्रवासी श्रमिकों को रोजगार संबंधी प्रमाण पत्र भी वितरित किए गए। श्री बीरेंद्र कुमार , उपायुक्त उद्योग द्वारा अवगत कराया गया कि जनपद में अभी तक जनपद के तथा प्रदेश के अन्य जनपदों के कुल 1035 प्रवासी श्रमिकों को विभिन्न औद्योगिक इकाइयों में रोजगार प्रदान कराया जा चुका है। इसी प्रकार विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना तथा एक जनपद एक उत्पाद टूल किट एवं प्रशिक्षण योजना के अंतर्गत 600 लाभार्थियों को टूल किट प्रदान की गई।


Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment