मेवाड़ में विभिन्न विभागों के ऑनलाइन अतिथि व्याख्यान आयोजित Online guest lectures of various departments organized in Mewar





  • 725 से अधिक बच्चों को दर्जनभर विषय विशेषज्ञों ने दीं महत्वपूर्ण जानकारियां


                                                       सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो 

गाजियाबाद। वसुंधरा सेक्टर 4सी स्थित मेवाड़ ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के विभिन्न विभागों ने एक दर्जन से अधिक अतिथि व्याख्यान आयोजित कर विद्यार्थियों को पाठ्यक्रम से जुड़ी जानकारियां ऑनलाइन मुहैया कराईं।

अतिथि व्याख्यान कराने वाले एचएसएस, बीएड व डीएलएड विभाग थे। अतिथि व्याख्यानों से सवा सात सौ से अधिक विद्यार्थी लाभान्वित हुए। एचएसएस विभाग ने ‘कोविड-19 के समय भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय कानून के तहत जीवन और आजीविका अधिकार’ विषय पर अतिथि व्याख्यान आयोजित किया। महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय रोहतक की विजिटिंग फैकल्टी व वकील डॉ. मनोज कुमार यादव ने भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 और मानव अधिकारों के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने जर्मन दार्शनिक जुर्गन हेबरमास के हवाले से कहा कि मानवाधिकार एक अवधारणा है जो न केवल एक नैतिक मूल है, बल्कि प्रकृति द्वारा भी न्यायिक है। जिसका अर्थ है कि वे सकारात्मक और जबरदस्त कानून हैं जो उनकी संरचना के माध्यम से न्यायसंगत व्यक्तिपरक दावों का समर्थन करते हैं। उन्होंने बताया कि किसी भी सभ्य समाज में जीने का अधिकार भोजन, पानी, सभ्य पर्यावरण, शिक्षा, चिकित्सा देखभाल और आश्रय के अधिकार का तात्पर्य है, ये किसी भी सभ्य समाज को ज्ञात मूल मानवाधिकार हैं। सभी नागरिक, राजनीतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक अधिकार मानव अधिकारों और सम्मेलन के सार्वभौमिक घोषणा में निहित हैं या भारत के संविधान के तहत इन बुनियादी मानव अधिकारों के बिना प्रयोग नहीं किया जा सकता है। इसके अलावा ‘उपभोक्ता संरक्षण एवं मोटर विहिकल अधिनियम’ विषय पर शारदा विश्वविद्यालय ग्रेटर नोएडा के प्रोफेसर प्रिंस मोहन सिन्हा, मानव अधिकार विषय पर जेएनयू दिल्ली के प्राफेसर डॉ. हरीश चंद्रा, अंतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार विषय पर गलगोटिया यूनिवर्सिटी ग्रेटर नोएडा की सहायक प्रोफेसर डॉ. सीमा यादव एवं मानव समाज एवं नागरिक विषय पर डॉ हरीश चन्द्रा ने अपने महत्वपूर्ण व्याख्यान दिये। 

इस दौरान विभागाध्यक्ष डॉ. विनीता पाल, अमित पाराशर, अन्य अध्यापक और छात्र-छात्राएं ऑनलाइन मौजूद थे। बीएड विभाग की ओर से चार दिवसीय अतिथि व्याख्यान आयोजित किये गये। इनमें हिमानी रायजादा, अनिल कुमार, तूलिका व हिना ने सोशल साइंस, गणित, लेसन प्लान व क्रियात्मक अनुसंधान की विद्यार्थियों को ऑनलाइन जानकारी दी। इसके संयोजन में विभागाध्यक्ष डॉ. गीता रानी, सपना रलहन, पूनम रावत, वीनस रावत, मानवी त्यागी, डॉ. मोनिका आदि का सहयोग रहा। डीएलएड विभाग की ओर से विवेकानंद ग्लोबल यूनिवर्सिटी राजस्थान की सहायक प्रोफेसर डॉ. मानसी मलिक, ऋषभ इंस्टीट्यूट दिल्ली की सहायक प्रोफेसर रेखा गिरधर, द लर्निंग ट्री की आर्ट एंड क्राफ्ट शिक्षिका आयशा रावत, हर्षिता, गरिमा सिंह आदि ने विभिन्न विषयों पर विद्यार्थियों को उपयोगी जानकारियां दीं।

Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment