आगामी 2 जुलाई से 12 जुलाई तक पूरे जनपद में सर्विलेंस कार्य के लिए अभियान चलाया जायेगा From July 2 to July 12,






  • संबंधित अधिकारियों को टीम बनाकर सर्विलेंस कार्य मानकों के अनुसार पूर्ण करने के डीएम ने दिए निर्देश


                                                                 प्रमुख संवाददाता 

गाजियाबाद। जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय की अध्यक्षता में आज कोविड-19 के रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए दिनांक 02 जुलाई से 12 जुलाई 2020 तक विशेष सर्विलांस अभियान संचालित करने के दृष्टिगत कलेक्ट्रेट सभागार में जिला टास्क फोर्स की बैठक आयोजित हुई। 

इसके अतिरिक्त दिनांक 01 जुलाई 2020 से संचारी रोग अभियान जनपद में संचालित किया जाना है, जिसके अंतर्गत संक्रामक रोग एवं वेक्टर जनित रोगों के रोकथाम बचाव एवं उपचार संबंधी गतिविधियों पर विस्तार से चर्चा हुई। इस अवसर पर  जिलाधिकारी  ने बताया कि विशेष सर्विलांस अभियान दिनांक 02 जुलाई से 12 जुलाई 2020 तक संचालित किया जाएगा, जिसमें जनपद में घर-घर जाकर संवेदीकरण करने के साथ-साथ कंटेनमेंट जोन में आई0एल0आई0 एवं एस0ए0आर0आई0 एवं नॉन कंटेनमेंट जोन तथा एस0ए0आर0आई0 के रोगियों का घर-घर जाकर गहन सर्वेक्षण किया जाएगा। सर्वेक्षण में आई0एल0आई एवं एस0ए0आर0आई0 सहित अन्य गंभीर रोगों से ग्रसित व्यक्तियों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। इस अभियान में संबंधित विभागों, संस्थाओं व संगठनों के द्वारा सर्वेक्षण में तैनात किए जाने हेतु मानव संसाधन की उपलब्धता कराए जाने के निर्देश जिलाधिकारी द्वारा दिए गए। 

इस अवसर पर जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद के स्वास्थ्य विभाग एवं विश्व स्वास्थ्य संगठन के सर्विलांस मेडिकल अफसर के द्वारा संयुक्त रुप से पल्स पोलियो अभियान के अनुसार माइक्रो प्लान तैयार कर उपरोक्त मानव संसाधन यथा स्थान तैनात किए जाएंगे एवं तदनुसार मैपिंग का कार्य किया जाएगा। जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि माइक्रो प्लान के अनुसार जनपद में टीमों का गठन किया जाए जिसके लिए गाजियाबाद विकास प्राधिकरण, नगर निगम, निगरानी समिति, एन0जी0ओ0, सिविल डिफेंस, एनसीसी आदि संबंधित उपरोक्तनुसार मानव संसाधन उपलब्ध कराएंगे, जिससे टीमों का गठन किया जाएगा। प्रत्येक सर्वेक्षण टीम में 2 सदस्य होंगे तथा टीम द्वारा प्रातः 8रू00 बजे से अपराहन 2रू00 बजे तक भ्रमण कार्य किया जाएगा। ग्रामीण क्षेत्र में टीम में आशा एवं आंगनवाड़ी कार्य कृतियों को अनिवार्य रूप से रखा जाएगा जबकि शहरी क्षेत्रों में टीम के सदस्यों का चयन उपलब्धता के आधार पर किया जाएगा। 

जिलाधिकारी ने अवगत कराया कि प्रत्येक सर्वेक्षण टीम को स्टीकर, चाक  एवं रिपोर्टिंग प्रारूप उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने पंचायती राज विभाग को निर्देशित किया कि ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम निगरानी समिति को उपलब्ध कराए गए इंफ्रारेड थर्मामीटर एवं पल्स ऑक्सीमीटर का उपयोग सर्वेक्षण टीम के द्वारा किया जाएगा। सर्वेक्षण टीम के द्वारा प्रत्येक घर की दीवार पर पल्स पोलियो अभियान की तरह चिन्हीकरण किया जाएगा। सर्वेक्षण टीम के द्वारा घर-घर जाकर प्रारूप के अनुसार सूचनाओं को एकत्रित किया जाएगा एवं सर्वेक्षण पूर्ण होने पर प्रत्येक घर पर जागरूकता के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा तैयार किया गया स्टीकर लगाया जाएगा जिसका उद्देश्य रहेगा कि आई0एल0आई0 एवं एस0ए0आर0आई0 मरीजों को आईडेंटिफाई कर सके ताकि उन्हें क्वॉरेंटाइन, आइसोलेशन या अन्य उपचार हेतु भेजा जा सके। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी अस्मिता लाल, अपर जिलाधिकारी भू0अ0, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, स्वास्थ्य विभाग, पंचायती राज विभाग, ग्रामीण विकास, एकीकृत बाल विकास योजना, सिविल डिफेंस, राष्ट्रीय कैडेट कोर, नगर निकाय, वन विभाग, कृषि विभाग, जनपद के प्रमुख गैर सरकारी संगठनों, विश्व स्वास्थ्य संगठन तथा यूनिसेफ के अधिकारी गण उपस्थित रहे।


Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment