गाजियाबाद मे दीवाली से अलग दीवाली का जश्न Diwali celebration is different from Diwali in Ghaziabad





साहिबाबाद में इस मौके पर नारे भी लगे तथा कुछ सोसायटियों में ताली - थाली शंख भी बजे

                                                      सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो 

गाजियाबाद। देश के  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर गाजियाबाद के लाखों लोग रविवार रात एकजुट होकर ठीक रात 9 बजे दीवाली का जश्न मनाया। इसके बाद अगले 9 मिनट तक लोगों ने दीयों, टॉर्च और मोबाइल फोन के फ्लैश ने एकता की रोशनी बिखेरी। कई जगहों पर लोग नारे लगाए तथा फिर से ताली - थाल, शंख बजाए। 

मिली जानकारी के मुताबिक, रविवार ठीक रात 9 बजे लोगों ने दीप जलाए, वहीं कुछ लोग टॉर्च की लाइट या मोबाइल फोन की लाइट से प्रकाश कर एकता के इस अभियान में शामिल हुए। इस अभियान में गाजियाबाद लोकसभा के सांसद और केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने भी पत्नी के साथ अपने आवास पर दीपक जलाए।
वहीं, शहर की एक सोसायटी में कुछ लोगों ने दीपक कुछ इस तरह डिजाइन करके जलाए गए, जिससे स्वास्तिक का प्रतीक बन गया। स्वास्तिक डिजाइन वाले इस दीपक को वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। 

वही पीएम मोदी के दीपक जलाने के आह्वान पर साहिबाबाद की हर कालोनियों में जश्न का माहौल रहा। लोगों ने ठीक 9 बजे दीपक, मोमबती, मोबाइल का टाॅर्च, लड़ी तक जला कर जश्न मनाया। ऐसे मौके पर कई सोसायटियों जैसे वसुंधरा सेक्अर - 3 , राजेन्द्र नगर में नारे लगाए गए वहीं कुछ लोगों ने पटाखे भी फोड़े। इसके साथ लोगों ने भारत माता के जयकारे भी लगाए। लोगों ने भ्रम में ऐसा किया। पीएम मोदी के इस अभियान का मकसद एकता का प्रदर्शन करना था, न कि जश्न मनाना।


                                                        रोशनी में नहाया हिंडन पार


                                                              सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो 

साहिबाबाद । कोराना वायरस के खिलाफ जारी जंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर रविवार  की रात 9बजे हिंडन पार क्षेत्र साहिबाबाद दीपक की रोशनी में नहा गया । अधिकांश स्थानों पर उत्साही युवकों ने दीपावली की तरह पटाखे छोड़कर कोरोना को भगाने के लिए भारत माता की जय और जय श्री राम का उद्घोष किया। जानकारी के अनुसार हिंडन पार क्षेत्र साहिबाबाद में शायद ही कोई ऐसा घर होगा जहां घर वालों ने अपने दरवाजे ,बालकनी और छत पर खड़े होकर दीपक ना जलाया हो। पूरा हिंडनपार क्षेत्र दीपकों की रोशनी में जगमगा गया। इससे पहले लोगों ने अपने बिजली से चलने वाले बल्ब और ट्यूबलाइट बंद कर यह दीप उत्सव मनाया।

अनेक स्थानों पर उत्साही युवाओं ने दीपावली की तरह पटाखे छोड़कर भारत माता की जय और जय श्रीराम के नारे लगाए । यह अद्भुत दृश्य दीपावली के उत्सव से भी आगे बढ़-चढ़कर देखा गया ।



Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment