साइबर ठगों ने निकाले एटीएम से हजारों रुपए Cyber thugs extracted thousands of rupees from ATM





पीड़ित की रिपोर्ट नहीं हो रही दर्ज, इधर से उधर दौड़ाकर बनाया फुटबाॅल

                                                       सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो 

इंदिरापुरम। साइबर ठगों ने एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के खाते से तीन बार में 28हजार पांच सौ रूपये एटीएम के द्वारा निकाल लिए। एक तो उसके साथ ठगी हुई ऊपर से पुलिस वालों ने इंजीनियर को इधर से उधर दौड़ाकर फुटबॉल बना दिया। फिर भी रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई।
          
जानकारी के अनुसार राजेन्द्र नगर सेक्टर 3 के ब्लॉक 9 में अभिषेक प्रताप सिंह अपने परिवार के साथ रहते हैं। वे एक निजी कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर है। अभिषेक प्रताप सिंह का कहना है कि बुधवार को उनके खाते से तीन बार में 28हजार 500रूपये निकाल लिए गए और यह निकासी एक मिनट में ही पूरी हो गयीं। मोबाइल फोन पर मैसेज आने के बाद उन्हे ठगी का पता चला इसके बाद उसने अपने खाते को ब्लॉक करा दिया। बैंक से जानकारी हुई कि यह निकासी बिहार प्रांत के हजारीबाग जिले के एक एटीएम से हुई है। जबकि उनके पास अपना एटीएम कार्ड था और किसी से भी उन्होंने एटीएम की जानकारी शेयर नहीं की थी। कुछ दिनों पहले जरूर उन्होंने लाजपत नगर के एटीएम से पैसे की निकासी की थी। इसके अलावा और कोई लेन-देन नहीं किया था । 
       
इस मामले को लेकर पहले वह अपनी बैंक आईसीआईसीआई  शक्ति खंड 3 इंदिरापुरम पहुंचे  तो वहां उन्हें थाना इंदिरापुरम में रिपोर्ट दर्ज कराने की सलाह दी । जब वह थाना इंदिरापुरम पहुंचे तो और उसे मोबाइल ऐप के जरिए ई एफआईआर दर्ज कराने के लिए कहा गया। लेकिन उनके लाख प्रयास के बावजूद भी ईएफ आईआर दर्ज नहीं हुई। बाद में उन्होंने थानाध्यक्ष इंदिरापुरम से मिलकर फरियाद की कि उनकी रिपोर्ट दर्ज करा दें। लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करना तो दूर उनकी शिकायत रिसीव भी नहीं की। उसे बाद में सलाह दी गई कि वे थाना साहिबाबाद क्षेत्र राजेन्द्र नगर में रहते हैं इसलिए थाना साहिबाबाद में ही उनकी रिपोर्ट दर्ज होगी । लेकिन ऐसा हुआ नहीं। थाना साहिबाबाद पुलिस के अधिकारी ने बताया कि जिस थाने में आपकी बैंक है उसी थाने में आपकी रिपोर्ट दर्ज  होगी ।
       
इंजीनियर बृहस्पतिवार की सुबह से परेशान है और एक थाने से दूसरे थाने में दौड़या जारहा है। कोई भी पुलिस अधिकारी उनकी बात और परेशानी को गंभीरता से नहीं ले रहा। क्या यही योगी जी की सरकार का स्वच्छ और पारदर्शी प्रवंध तंत्र है?



Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment