गरीबों के सहायतार्थ निःशुल्क दवा वितरण Free drug delivery with the help of the poor



लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट और शान्ति स्मृति धमार्थ न्यास द्वारा सैकड़ों मरीजों को दिया गया दवा 

गाजियाबाद, ( सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो )  “लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट” द्वारा संचालित डा0 ए0 पी0 अब्दुल कलाम निःशुल्क पुस्तकालय, वाचनालय ईदगाह रोड गरिमा गार्डन पसोंडा साहिबाबाद के प्रांगण में ‘शान्ति स्मृति धर्मार्थ न्यास” (पंजीकृत) द्वारा निःशुल्क होमियोपैथिक दवाईयों का वितरण डा0 अनूप कुमार सक्सेना द्वारा मरीजों की गहन जाँच के बाद किया गया। 

यह शिविर वीरेन्द्र यादव एडवोकेट, इंजी0 धीरेन्द्र यादव के सौजन्य से आयोजित किया गया। लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष राम दुलार यादव भी कार्यक्रम में शामिल हुए। सैकड़ों महिलाओं बच्चों व पुरुषों ने जाँच करवा कर निःशुल्क दवा, कैम्प में प्राप्त किया। स्थानीय निवासियों ने इस कार्यक्रम के लिए डा0 अनूप कुमार तथा उनकी टीम के सेवा भाव की सराहना की। कल्पना सक्सेना, अभिनव सक्सेना और उस्मान भाई ने दवा वितरण में सहयोग किया। शिविर 11 बजे से 2 बजे शाम तक लगा। सैकड़ों ने इस कार्यक्रम में भाग लेकर लाभ उठाया।
   
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष राम दुलार यादव ने कहा कि शिक्षा व चिकित्सा किसी भी देश के विकास की दिशा तय करती है। अफसोस के साथ कहना पड रहा है कि हमारे यहाँ आज दोनों की दयनीय स्थिति है, जबकि 75 प्रतिशत से अधिक जनता सरकारी स्कूलों व सरकारी अस्पतालों पर निर्भर है। केन्द्र व प्रदेश सरकार का बजट शिक्षा व चिकित्सा के क्षेत्र में आपर्याप्त है। पूरे देश को पता है कि चमकी बुखार ने गोरखपुर उ0 प्र0 तथा बिहार में सैकड़ों मासूम बच्चों की असमय जान ले ली, जबकि कुछ लाख रुपये की आक्सीजन से इनकी जान बचाई जा सकती थी। सरकारी स्कूल तो खिचड़ी बनाओं, खाओं व घर जाओं, बच्चों को उचित शिक्षा नहीं दे पा रहे हैं। अब तो प्राइमरी शिक्षा आर्थिक दृष्टि से बहुत ही गरीब बच्चों के लिए रह गयी है। शिक्षा की उपेक्षा से निम्न वर्ग, मध्यम वर्ग भी प्राइवेट स्कूलों में बच्चों की पढाई तथा प्राइवेट अस्पतालों में इलाज करा रहे हैं। उच्च वर्ग तो बड़े अस्पतालों में जो फाइव स्टार होटल की तरह हैं उनमे इलाज तथा अपने बच्चों को बड़े स्कूलों में शिक्षा दिला रहा है। उसमे निम्न आय वर्ग के लोगों के लिए कोई संवेदना नहीं है। सभी को सम्भव बराबरी पर लाने के लिए भारत सरकार को शिक्षा व चिकित्सा के आधुनिकरण पर बल देना चाहिए। लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट शिक्षा व चिकित्सा सभी को प्राप्त हो समय-समय पर इसके लिए कार्यरत है।
  
डा0 अनूप कुमार सक्सेना ने कहा कि “होमियोपैथी पहले रोग का कारण जानने का प्रयास करती है तब दवा देती है। इस दवा का कोई भी शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ता। यह पद्धति जड़-मूल से रोग को खत्म करती है। डा0 अनूप कुमार सक्सेना ने सरकार से माँग की कि जब बच्चों को बचपन से सारे विषय पढाए जाते हैं इसलिए कि इन्हें प्रारम्भ से सारी जानकारी प्राप्त हो जाती है तो चिकित्सा के क्षेत्र में इतनी उदासीनता क्यों ? चाहे होमियोपैथी, चाहे एलोपैथी, चाहे आयुर्वेदिक हो इसका ज्ञान बच्चों को प्राइमरी शिक्षा से करवानी चाहिए तभी बच्चे बचपन से ही स्वास्थ्य के बारे में जागरूक होंगें। डा0 साहब ने कहा कि जिस देश के नागरिक शिक्षित व स्वस्थ्य होंगें वह देश आदर्श सुदृढ़ देश बनेगा। उन्होंने आयोजकों का धन्यवाद भी किया तथा कहा कि हम निःशुल्क दवा वितरण करते रहेंगें जब भी आप हमें सेवा का अवसर देंगें।
   
कार्यक्रम में सहयोगी रहे, मंगल सिंह चैहान, फौजुद्दीन, विनय मिश्र, शहनवाज, अवधेश यादव, विजय भाटी, राज पाल यादव, वीरेन्द्र यादव एडवोकेट, इंजी0 धीरेन्द्र यादव, उसमान भाई दवा वितरण में सहयोग किया। इस मौके वर  शशि बाला, आबिदा, मास्टर शकील, मो0 नईम, मो0 शान, पिंटू सिंह, शाहिल, साजिद, वाजिद, इदरीश, सोनू, इरफान, करीना, माजिद, अमना, सत्तो देवी, इमरान, युनुस, जमालुद्दीन आदि सैकड़ों लोग दवा वितरण से लाभान्वित हुए।




Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment