पोषण अभियान के अन्तर्गत एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन Organizing a one-day workshop under Nutrition Campaign



गाजियाबाद, ( प्रमुख संवाददाता ) कलेक्टेªट सभागार में जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी ने पोषण अभियान के अन्तर्गत एक दिवसीय कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुये बेसिक शिक्षा विभाग स्वास्थ्य विभाग व बाल विकास परियोजना विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि जनपद को सुपोषित बनाने हेतु अभियान चलाया जाये।

पूरे जनपद में 0 से 5 वर्ष के बच्चों के वजन की प्रगति 70.79 प्रतिशत है। रजापुर व लोनी विकास खण्ड में बच्चों के कम वजन की प्रगति पर मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि बाल विकास परियोंजना अधिकारियों को जिला कार्यक्रम अधिकारी नोटिस जारी करें । ग्रामीण क्षेत्रों में किशोरियों के स्वास्थ्य कार्ड बनाये जायें। आई0सी0डी0एस0 व स्वास्थ्य विभाग में 7529 गर्भवती महिलाए पंजीकृत हुई है। जिला  पूर्ति विभाग के प्रतिनिधि ने बताया कि कुपोषित बच्चों के राशन कार्ड जारी कर दिये गये है। 
बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी ने अवगत कराया कि सुपोषित गांव बनाने हेतु कुछ गांव गोद लिये जाने है। इस पर मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि जो गांव ज्यादा कुपोषित है उन्हें ही गोद लिया जाये। जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि इस अभियान के अन्तर्गत ए0एन0एम0 व आंगनवाडी की मोनिटिरिगं की जाये। शिक्षा विभाग द्वारा स्कूल में पढने वाली किशोरियों को नीली आयरन की गोलियाॅ महिला शिक्षकों द्वारा प्रदान की जाये। ग्राउन्ड सर्वे कराया जाये स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा विभाग व आई0सी0डी0एस0 के समन्वय से 15 दिन का मैसेज कैम्पेन चलाये। उन्होने सम्बन्धित विभागों को निर्देशित करते हुये कहा कि ये निर्देश बैठक तक ही सीमित न रहे। आंगनवाडी व स्वास्थ्य कार्यकर्ताओ तक पहंुचे। 
बैठक में जिलाधिकारी ने ग्रामीण क्षेत्रों में सेनिट्रि नैपकिन की उपयोगिता व जागरूकता बताये जाने हेतु स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को डोर टू डोर जाने के निर्देश दिये। उन्होने कहा कि आरम्भ में 50 ग्राम पंचायतों में सेनिट्रि नैपकिन निशुल्क वितरित किये जाये। उसके उपरान्त एस0एस0जी0 से समन्वय कर क्रय हेतु घरों में पहुंचाये जाये यह कार्य इसी माह कराये। ग्राम सभा में प्रस्ताव पास हो ग्राम स्तर पर जागरूकता लायी जाये। एक-एक अधिकारी को प्रत्येक ग्राम पंचायत पर लगाये। आगामी 25 फरवरी को इस योजना को लाॅन्च कर दें। 
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी, जिला विकास अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, समाज कल्याण अधिकारी, बेसिक शिक्षाधिकारी, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी, व जिला पूर्ति विभाग के प्रतिनिधि व सभी बाल विकास परियोजना अधिकारी उपस्थित रहे। 



Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment