रक्षा सौदों में दलाली लेता रहा है गांधी परिवार: भाजपा Gandhi family is getting brokerage in defense deals: BJP



नयी दिल्ली ।  भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने वायुसेना के ‘पिलाटस प्रशिक्षण विमान’ के सौदे में सीधे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के परिवार के दलाली पाने का आज आरोप लगाया और कहा कि राफेल के सौदे में भी गांधी परिवार की दलाली का जुगाड़ नहीं हो पाने के कारण समय पर विमान नहीं खरीदे गये और देश की सुरक्षा को खतरे में डाला गया। 
भाजपा के प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा ने यहां संवाददाताओं से कहा कि आजादी के बाद भारत में हुए सभी घोटालों के तार कांग्रेस के दरवाजे पर जाते हैं और राफेल को लेकर कांग्रेस में जो छटपटाहट दिखायी दे रही है, वह गांधी परिवार को दलाली नहीं मिल पाने के कारण है। 
डॉ. पात्रा ने आरोप लगाया कि श्री गांधी के परिवार के सदस्य और श्रीमती सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट वाड्रा के अभिन्न मित्र संजय भंडारी की राफेल विमान बनाने वाली कंपनी डेसोल्ट एविएशन्स से साठगांठ नहीं हो पाने के कारण यह विमान सौदा नहीं किया गया। संजय भंडारी इस बात के लिए प्रयासरत थे कि उनकी कंपनी ऑफसेट इंडिया सॉल्यूशन्स (ओआईसी) को डेसोल्ट एविएशन्स के साथ ऑफसेट करार में किसी प्रकार से शामिल करा लिया जाए लेकिन डेसोल्ट एविएशन्स इसके लिए राज़ी नहीं हुई और इसी कारण यह सौदा संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के समय नहीं हो पाया।
राफेल सौदे में हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) की अनदेखी करने के श्री गांधी के सरकार पर आरोपों का उल्लेख करते हुए भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि संप्रग सरकार के समय वायुसेना के पिलाटस विमानों की खरीद में एचएएच द्वारा विकसित स्वेदशी एचटीटी विमानों को दरकिनार करके स्विट्ज़रलैंड से पिलाटस विमानों की खरीद की गयी थी और उसके लिए संजय भंडारी के स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक के खाते में दस लाख स्विस फ्रैंक का भुगतान किया गया था और 2012 में सौदे पर अंतिम मुहर लगने के समय श्री वाड्रा को दुबई और स्विट्ज़रलैंड के ज्यूरिख का महंगा हवाई टिकट दिया गया था और श्री वाड्रा ने यात्रा भी की थी।



Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment