डीयू और लेडी श्री राम कॉलेज प्रशासन के खिलाफ आर्ट्स फैकल्टी, डीयू पर विरोध प्रदर्शन Protest against DU and Lady Shri Ram College Administration on Arts Faculty, DU



  • छात्रा की संस्थागत हत्या के खिलाफ आवाज उठाई

  • तुरंत एलएसआर प्रिन्सिपल और केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन के इस्तीफे की मांग की

                                                               विशेष संवाददाता




नई दिल्ली। क्रांतिकारी युवा संगठन (केवाईएस) ने आज अन्य प्रगतिशील संगठनों के साथ मिलकर दिल्ली विश्वविद्यालय के आर्ट्स फैकल्टी पर डीयू और लेडी श्री राम कॉलेज (एलएसआर) प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन कियाद्य ज्ञात हो कि पिछले दिनों एलएसआर प्रशासन की उदासीनता के कारण एक छात्रा की मौत हो गयी। ऐश्वर्या एलएसआर कॉलेज में बीएससी मैथ्स की छात्रा थी, जिन्हें इंस्पायर स्कॉलरशिप के लिए चुना गया था। स्कॉलरशिप के तहत उसे 1.2 लाख की राशि मिलनी थी जिसे रोक कर रखा गया।



ऐश्वर्या का परिवार उसकी पढ़ाई के खर्च से जूझ रहा था, जो इस बात से साफ हो जाता है कि उनका घर गिरवी रखा गया और छोटी बहन को स्कूली पढ़ाई बीच में छोड़नी पड़ी। महामारी और लॉकडाउन के दौरान लाई गई ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली की वजह से लैपटॉप ना होने और महंगे इंटरनेट रिचार्ज के कारण उसकी पढ़ाई बाधित हो गई थी। उसने छात्र संगठनों के सर्वे के माध्यम से प्रशासन तक यह बात पहुंचाने का प्रयास भी किया मगर एलएसआर प्रशासन ने कोई जवाब नहीं दियाद्य व्यापक महामारी के दौरान हॉस्टल प्रशासन ने भी कमरा खाली करने का आदेश दे दिया थाद्य एलएसआर प्रशासन शर्मनाक रूप से इन परेशानियों से अवगत कराए जाने से मुकर रहा है।

ज्ञात हो कि छात्र संगठनों ने ऑनलाइन परीक्षा और कक्षाओं का पुरजोर विरोध किया, जो कि सामाजिक आर्थिक हाशिए के छात्रों को शिक्षा से बाहर करने का एक तरीका है। तमाम विरोध प्रदर्शनों और कानूनी कार्रवाई के बावजूद डीयू प्रशासन ने भेदभावपूर्ण ऑनलाइन परीक्षा और शिक्षा के मॉडल को अपनाया।

इस घटना से साफ हो जाता है कि गरीब और पिछड़े पृष्ठों से आने वाले छात्रों के साथ किस तौर पर इन नामी गिरामी शिक्षा संस्थानों में भेदभाव किया जाता है। तमाम चुनौतियों का सामना कर के यदि कोई गरीब छात्र इन कॉलेजों में दाखिला पा ले तो भी शिक्षा की गैरबराबर प्रणाली उनका जीना मुश्किल कर देती है। यह घटना यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा संस्थागत हत्या है। गैरबराबर ऑनलाइन शिक्षा, शिक्षा के बढ़ते निजीकरण और बाजारीकरण, और सरकारी यूनिवर्सिटी के प्रशासन की उदासीनता के खिलाफ संघर्ष करने की जरूरत बढ़ गई है।

केवाईएस मांग करता है कि सभी स्कॉलरशिप तुरंत छात्रों को मुहैया कराई जाए और साथ ही, एलएसआर प्रिन्सिपल और केन्द्रीय मंत्री हर्ष वर्धन के भी इस्तीफे की मांग करता है।


Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment