21वें कारगिल विजय दिवस पर कृतज्ञ राष्ट्र की श्रद्धांजलि Grateful nation's tribute on 21st Kargil Victory Day


                                                     सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो 



गाजियाबाद । केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के तत्वावधान में 21 वे कारगिल विजय दिवस पर ऑनलाइन श्रद्धांजलि सभा का आयोजन कर भारतीय सेना के जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।
           
समारोह के मुख्य अतिथि डॉ. अशोक कुमार चैहान (संस्थापक अध्यक्ष, एमिटी शिक्षण संस्थान) ने कहा कि आज हमारे ओजस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश महाशक्ति बनने की ओर आगे बढ़ रहा है । हमें भारत को सैनिक शक्ति, आर्थिक शक्ति और मानव संसाधन को मजबूत करके देश को मजबूत बनाना है कि कोई भारत की ओर आंख उठाकर न देख सके । डॉ चैहान ने शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि हमें भारतीय सेना पर गर्व है हमारी मजबूत सेना हर परिस्थिति में देश की रक्षा करने में सक्षम है । 

केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने कहा कि युवाओं में देश भक्ति की भावना से ओतप्रोत करने की आवश्यकता है। आज कई जगह विद्रोह का स्वर सुनाई देता है उसे सख्ती से कुचलने की आवश्यकता है,भारत मे रहकर, यहाँ का खा पीकर  विदेशी गुणगान करने वाले देश भक्त नहीं हो सकते।
        
मेजर जनरल (रिटायर्ड)  आरकेएस भाटिया ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए इस सफल आयोजन के लिए सभी को बधाई दी। उन्होंने बताया कि भारत सरकार ने ऑपरेशन विजय नाम से 2,00,000 सैनिकों को कारगिल युद्ध मे भेजा था। यह युद्ध आधिकारिक रूप से 26 जुलाई 1999 को समाप्त हुआ। इस युद्ध के दौरान 550 सैनिकों ने अपने जीवन का बलिदान दिया और 1400 के करीब घायल हुए थे। उन्होंने भारत सरकार से मांग की कारगिल में शहीद 550 सैनिकों की वीर गाथा सभी को पता चले इसके लिए सरकार इसे पाठ्यक्रम में सम्मिलित करें।
       
मेजर जनरल (रिटायर्ड)वीएसएम डॉ सुरेन्द्र मोहन ने कहा कि आर्य समाज ने भारत को कई वीर सैनिक प्रदान किये हैं। ऋषि दयानन्द से प्रेरणा लेकर कई युवा सैनिक बनकर देश की सेवा में कार्यरत्त हैं। 

प्रान्तीय महामंत्री प्रवीण आर्य ने कहा कि भारतीय सेना ने आजादी के बाद पांच बड़े युद्ध लड़े हैं। जसमे कारगिल युद्ध  सबसे बड़ी विजय के रूप में सम्मिलित है। आर्य नेता आनन्द चैहान व कर्नल तेजेन्द्र पाल त्यागी जी ने कारगिल में शहीद सैनिकों को श्रद्धा सुमन अर्पित किए। प्रधान शिक्षक सौरभ गुप्ता, अनिता आर्या, संगीता आर्या, पुष्पा चुघ, वंदना जावा, मधु खेड़ा आदि ने देश भक्ति पूर्ण गीत सुनाये।

प्रमुख रूप से आचार्य महेन्द्र भाई, यशोवीर आर्य, आनन्द प्रकाश आर्य(हापुड़), देवेन्द्र भगत, नरेन्द्र आर्य ‘सुमन’, दुर्गेश आर्य, जगदीश मलिक, वीना वोहरा, रचना आहूजा, देवेन्द्र गुप्ता, राजेश मेहंदीरत्ता, आस्था आर्या, प्रेम सचदेव, ओम सपरा आदि उपस्थित थे।



Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment