राशन नहीं देने पर कार्ड धाराकों ने किया हंगामा Las serpentinas de cartas crearon un alboroto por no dar ración



                        राशन डीलर के यहां हंगामा करते कार्डधारी। 

                                                              सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो 

साहिबाबाद ।  शालीमार गार्डन स्थित एक सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानदार के राशन देने से मना करने पर  राशन कार्ड धारकों ने दुकान के बाहर हंगामा किया। कार्डधारकों का आरोप है कि राशन डीलर सरकार द्वारा उपलब्ध कराए जा रहे राशन को उन्हें देने से इंकार कर रहा है और शटडाउन का फायदा उठाकर उसे काला बाजार में बेचने की फिराक में है ।
       
जानकारी के अनुसार बी160 विक्रम एनक्लेव वार्ड 37 पप्पू कॉलोनी  शालीमार गार्डन में मैसर्स  कोमल नाम से एक सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान है जिसका कोड नंबर 262 है। यहां पर बृहस्पतिवार की सुबह को जब राशन कार्ड धारक महिलाएं वहां राशन लेने पहुंची तो दुकानदार ने राशन दुकान में उपलब्ध नहीं होने की कहकर उन्हें टरका दिया । कार्ड धारक महिलाओं का आरोप है कि दुकान में राशन भरा हुआ है और दुकानदार उनको राशन इसलिए नहीं दे रहा। राशन कार्ड धारक महिलाओं का आरोप है कि वह शटडाउन का फायदा उठाकर सरकारी गल्ले को काला बाजार में बेचना चाहता है। 
        
इस संबंध में खाद्य एवं आपूर्ति विभाग गाजियाबाद के अधिकारियों की चुप्पी दुकानदारों के मनोबल को बढ़ा रही है। आखिर उन्हें इस माह का राशन क्यों नहीं दिया जा रहा जबकि सरकार को कोरोना वायरस के कारण देशभर में प्रधानमंत्री द्वारा किए गए शटडाउन के बीच में सस्ता राशन देने का वादा सरकार कर रही है। महिलाओं का कहना है कि उन्हें राशन दिलवा जाए जिससे कि शटडाउन के समय में वे अपने बच्चों का भरण पोषण कर सकें। क्योंकि गरीब परिवार की महिलाओं के घर में इतना पैसा नहीं है वह मंहगा सामान बाजार से खरीद कर अपने बच्चे को खिला दें और उनके पेट की भूख मिटा सके।
       
प्रदर्शन करने वाली महिलाओं में मधु सिंह पत्नी जगबीर सिंह, विमला देवी , उषा पत्नी चमन,सोनी पांचाल पत्नी मनोज कुमार, क्रांति पत्नी चंद्रपाल, सूरजमुखी  पत्नी धनीराम, सुनीता पत्नी रामबाबू, सविता भाटी पत्नी चंद्रपाल,रीमा पत्नी जसबीर, सलमा पत्नी ईसुव, अरुणा पत्नी सूरज और आरिफ मलिक आदि थे।




Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment