जेएनयू में हुई हिंसा के खिलाफ मार्च में केवाईएस ने निभाई हिस्सेदारी KYS took part in march against JNU violence



  • जेएनयू में छात्र-शिक्षकों पर एबीवीपी के हमले की कड़ी भर्त्सना की
  • तुरंत सभी हमलावरों को गिरफ्तार करने की मांग की


                                                         विशेष संवाददाता


दिल्ली । क्रांतिकारी युवा संगठन (केवाईएस) कार्यकर्ताओं ने आज अन्य प्रगतिशील संगठनों के साथ मंडी हाउस से मानव संसाधन विकास मंत्रालय तक आयोजित मार्च में हिस्सेदारी निभाई। ज्ञात हो कि यह मार्च पिछले दिनों जेएनयू में छात्रों और शिक्षकों पर एबीवीपी के हमले के खिलाफ जेएनयू शिक्षक संघ और जेएनयू छात्र संघ द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया गया था। इस मार्च में हजारों की संख्या में छात्रों, शिक्षकों और आम लोगों ने शिरकत की। यह हिंसा बिना जेएनयू प्रशासन की आज्ञा और दिल्ली पुलिस की हमलावरों को मदद के बिना संभव नहीं थी।
यह अत्यंत शर्मनाक है कि जेएनयू में हिंसा की विश्व-भर में निंदा हुई है, लेकिन अभी तक हमला करने वालों को नहीं पकड़ा गया है। इसके उल्टे, जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष जिनको हमले के कारण काफी गहरी चोट आई उनके खिलाफ ही प्राथमिकी दर्ज कर दी गयी है। यह घटना पिछले कुछ सालों से लोगों द्वारा कही जा रही बात को ही सही साबित करती है, जो सभी संस्थानों और पुलिस के सरकार का पिट्ठू होने के संबंध में कही जाती रही है। साथ ही, छात्रों पर हुई यह हिंसा लोगों पर हमले का इकलौता उदाहरण नहीं है बल्कि, पिछले कुछ दिनों में सभी जनतांत्रिक आंदोलनों पर बर्बर दमन हुआ है। देश में इस स्थिति को अघोषित आपातकाल कहा जा सकता है जहां सरकार लोगों पर बदले की भावना से लैस होकर लोगों पर हमला कर रही है।
केवाईएस कड़े शब्दों में जेएनयू के छात्रों और शिक्षकों पर एबीवीपी के हमले की भर्त्सना करता है, और मांग करता है कि सभी हमला करने वालों को तुरंत गिरफ्तार किया जाये। साथ ही, इस घटना की एक निष्पक्ष और स्वतंत्र एजेंसी द्वारा जांच खासकर जेएनयू प्रशासन की भूमिका और पुलिस की हमलावरों को लेकर हो। केवाईएस आने वाले दिनों में भाजपा सरकार की जनता-विरोधी नीतियों के खिलाफ अपनी मुहिम तेज करेगा।



Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment