‘किसान कामगार उत्थान दिवस’ के रूप में मनाया गया चैधरी चरण सिंह का जन्मदिन Chaudhary Charan Singh's birthday celebrated as 'Kisan Kamgar Utthan Divas'





                                                   सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो 
साहिबाबाद । समाजवादी पार्टी के वरिष्ट नेता पूर्व राज्य  कार्यकारिणी सदस्य समाजवादी पार्टी उत्तर-प्रदेश के नेतृत्व में 1, स्वरुप पार्क जी0 टी0 रोड साहिबाबाद ज्ञान पीठ केन्द्र के प्रांगण में किसानों, कामगारों, पिछड़ों, अतिपिछड़ों व उपेक्षित, बेबस, दलितों, पीड़ितों के सम्मान जनक जीवन जीने के लिए जीवन पर्यन्त संघर्षशील स्वतंत्रता सेनानी, भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चैधरी चरण सिंह का जन्म दिन समारोह “किसान कामगार उत्थान दिवस” के रूप में मनाया गया। समाजवादी पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ताओं व गणमान्य नागरिकों ने चैधरी चरण सिंह के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। कार्यक्रम की अध्यक्षता समाजवादी पार्टी के नेता पूर्व अधिकारी सी0 पी0 सिंह तथा संचालन इंजी0 धीरेन्द्र यादव, आयोजन हाजी मोहम्मद सलाम ने किया। वीरेन्द्र यादव एडवोकेट नेता समाजवादी पार्टी मुख्य वक्ता के रूप में कार्यक्रम में शामिल रहे। कार्यक्रम को युवा नेता अंशू ठाकुर, राम प्यारे यादव, वीर सिंह सैन, एस0 पी0 छिब्बर, बिंदु राय ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर समाज के कमजोर वर्गों में फल वितरित किया गया। 
   

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सपा के साहिबाबाद विधान सभा के पूर्व प्रत्याशी वीरेन्द्र यादव एडवोकेट ने कहा कि श्रद्धेय चैधरी चरण सिंह ने अपना सारा जीवन किसानों, गरीबों, पिछड़ों, कामगारों व दलितों के जीवन में प्रकाश की नई किरण उनके घरों में पहुंचे तथा उनका सर्वांगीण विकास हो इसी  में लगा दिया। वे महात्मा गाँधी के दर्शन व आर्थिक सोच से प्रभावित थे। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहते महत्वपूर्ण कार्य किया जो भारत के राजनीतिक इतिहास में ‘मील का पत्थर’ बना। उनके कार्य से करोड़ों किसानों, कामगारों, गरीब, पिछड़े व अल्पसंख्यक लाभान्वित हुए। 1952 में जमींदारी उन्मूलन भूमि सुधार बिल पारित करवाकर एक झटके में भूमिहीन, बेघर लोगों को मालिक बना दिया। 1953 में चकबन्दी कानून पास करवा कर किसानों की बिखरी जमीन को इकठ्ठा करने का कार्य किया जिससे उत्पादन में बढ़ोत्तरी हुई। पिछड़े, अतिपिछडे, दलितों को इकठ्ठा कर उनमे राजनैतिक चेतना पैदा की तथा सोते समाज को जगाया। राजनीति में भागीदारी दिलवाकर सत्ता का नया केन्द्र स्थापित किया। इसका परिणाम यह हुआ कि आपातकाल समाप्त होने के बाद विधान सभा के चुनाव में जनता पार्टी सफल हुई, कई पिछड़े, अतिपिछडे प्रदेशों में मुख्यमन्त्री बने, किसानों में राजनीतिक चेतना पैदा करना, अपने अधिकारों की रक्षा के लिए शांतिपूर्ण आन्दोलन करना चैधरी साहब के प्रयास से सम्भव हो सका।
 
वीरेन्द्र यादव ने कहा कि आज देश में नफरत का वातावरण बन रहा है चारों ओर भय व्याप्त है, भाईचारा बिखर रहा है, आर्थिक मन्दी है, करोड़ों नवजवान बेरोजगार है, काम-धंधे चैपट हो रहे है, फैक्टरियां बन्द हो रही हैं, देश को मन्दी से उबारने के लिए सोचना चाहिए, हमारा संविधान हर धर्म को पूजा-अर्चना, इबादत की स्वतंत्रता देता है।  चैधरी साहब ने बजट का आधे से अधिक भाग गाँव व किसानों के लिए निर्धारित किया था। आज माननीय श्री अखिलेश यादव राष्ट्रीय अध्यक्ष सपा जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे बजट का 70 प्रतिशत किसानों, कामगारों के जीवन में सम्पन्नता आये इसके लिए निर्धारित कर लगाया था। वे चैधरी चरण सिंह के बताये रास्ते पर चलने वाले सर्वमान्य नेता हैं।
 

समाजवादी पार्टी के वरिष्ट नेता राम दुलार यादव ने कहा कि स्वतंत्रता सेनानी, भारत के पूर्व प्रधानमन्त्री चैधरी चरण सिंह जी ने कभी सिद्धान्तों से समझौता नहीं किया। वे नैतिकता, ईमानदारी को सार्वजानिक जीवन में आवश्यक मानते थे। उनका मानना था कि यदि देश का किसान, कामगार आर्थिक रूप से संपन्न होगा तो देश के कस्बे, छोटे बाजार, नगर आर्थिक दृष्टि से विकास करेंगें। उन्होंने कहा था कि “देश के खुशहाली व विकास का रास्ता गाँव के खेत-खलिहानों से होकर गुजरता है”। चैधरी साहब का मानना था कि बेरोजगारी की समस्या, छोटे उद्योगों व खेती को प्रोत्साहन देने से दूर हो सकती है।
  समारोह में प्रमुख गणमान्य साथियों ने भाग लिया इनमें एस0 एन0 जायसवाल, वीर सिंह सैन, राजपाल यादव, ब्रह्म प्रकाश, एस0 पी0 छिब्बर, ओम प्रकाश अरोड़ा, बिंदु राय, संजू शर्मा, सम्राट सिंह यादव, मुनीव यादव, फौजुद्दीन हाजी मोहम्मद सलाम, देवनाथ भारती, इंजी0 धीरेन्द्र यादव, राम प्यारे यादव, विनोद त्रिपाठी, हरिशंकर यादव, अखिलेश कुमार शुक्ला, हरिकृष्ण, हरेन्द्र यादव, प्रेम चन्द पटेल, सुरेश कुमार भारद्वाज, हिमांशु सैनी, सुभाष यादव, अमर बहादुर यादव, देवमन यादव, चैधरी माजिद अली, आसरीन, मीना ठाकुर, मो0 अनवर, मो0 हीरा, मोहम्मद असरफ, मो0 फूल हसन, मो0 हाबिर, मो0 इमरान, मो0 शहीद, जाकिर, इस्लाम, आदि मुख्य रहे।  कार्यक्रम के अन्त में फल वितरित किया गया। 



Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment