तेलंगाना में केसीआर का जादू चला KCR magic runs in Telangana



हैदराबाद,  (वार्ता) तेलंगाना में समय पूर्व विधानसभा चुनाव कराने का मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव का दांव सही साबित हुआ है और उनकी पार्टी राज्य में 34 सीटें जीतकर तथा 54 सीटों पर बढ़त के साथ भारी जीत से दूसरी बार सरकार बनाने जा रही है। 

एक सौ उन्नीस सदस्यीय विधानसभा के लिए गत सात दिसंबर को हुए चुनाव की मतगणना के आज अब तक घोषित 45 परिणामों में से 34 तेलंगाना राष्ट्र समिति के पक्ष में गये हैं और 54 सीटों पर उसके उम्मीदवार आगे चल रहे हैं। इस तरह टीआरएस राज्य में पहले से अधिक सीटों के साथ सत्ता में वापसी कर रही है।

लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शिकस्त देने के लिए महागठबंधन की तैयारी में लगी कांग्रेस और तेलुगू देशम पार्टी ने मिलकर चुनाव लड़ा लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी है। इस गठबंधन में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी भी उनके साथ थी। कांग्रेस को अब तक आठ सीटें मिली है और सिर्फ 10 सीटों पर उसके उम्मीदवार आगे हैं। तेदेपा ने एक सीट जीती है और एक सीट पर आगे चल रही है। एक सीट ऑल इंडिया फारवर्ड ब्लाक के खाते में गयी है। एआईएमआईएम उम्मीदवार तथा मौजूदा विधायक अकबरुद्दीन ओवेसी चंद्रयानगुट्टा विधानसभा सीट से पाँचवीं बार विजयी हुये हैं और पार्टी छह सीटों पर आगे हैं। भारतीय जनता पार्टी सिर्फ एक सीट पर आगे हैं जबकि एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार बढ़त बनायें हुये हैं। 

मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने विधानसभा को निर्धारित समय से लगभग आठ महीने पहले भंग कर दिया था और नये चुनाव कराने की सिफारिश की थी। उनका यह दांव काम आया और पार्टी पहले से अधिक सीटों के साथ सत्ता में आ रही है। 

जगतियाल सीट से टीआरएस उम्मीदवार एम. संजय कुमार ने कांग्रेस नीत पीपुल्स फ्रंट के मौजूदा विधायक जीवन रेड्डी को 60 हजार से ज्यादा मतों से हरा दिया। प्रमुख उम्मीदवारों में मुख्यमंत्री तथा टीआरएस प्रमुख के. चंद्रशेखर राव गजवेल सीट से, उनके पुत्र के.टी. रामा राव सिरसिल्ला सीट से तथा मुख्यमंत्री के भतीजे और सरकार में मंत्री रहे टी. हरीश राव सिद्दिपेट सीट से जीत गये हैं। 



Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment