कांग्रेस का एक भी नुमांइदा जीतना नहीं चाहिये: नरेन्द्र मोदी Congress should not win any single nomination: Narendra Modi



रीवा, (मप्र)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को लोगों से कहा कि कांग्रेस के अहंकार को समाप्त करने के लिये जरूरी है कि कांग्रेस का एक भी नुमांइदा नहीं जीत पाए। मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को विधानसभा चुनाव होने हैं। रीवा में भाजपा के समर्थन में चुनावी जनसभा को सम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘मैं आपसे आग्रह करने आया हूं कि कांग्रेस का एक भी नुमांइदा जीतना नहीं चाहिये। एक भी जीतना नहीं चाहिये। ये कांग्रेस का अंहकार ...किसी की परवाह नहीं करना, अनाप शनाप हर किसी का अपमान करना.... ये जो उनका अहंकार है, उस अहंकार को चूर-चूर करने के लिये 28 नवंबर एक मौका है। ये 28 नवंबर अहंकार को चूर-चूर करने का एक मौका है।’’।

मोदी ने जनता को याद दिलाया कि केन्द्र और प्रदेश में भाजपा की डबल इंजन की सरकार होने से पिछले साढ़े चार साल में यहां तेजी से विकास हुआ है। जबकि इससे पहले शिवराज सरकार को केन्द्र की यूपीए सरकार से हर दिन अपने हकों के लिये लड़ाई लड़ना पड़ी। उन्होंने कहा कि 28 नवंबर को वोट डालने से पहले कांग्रेस के 55 साल और 15 साल के भाजपा शासन को पल भर के लिये याद कर लीजिये।

उन्होंने दिल्ली पर राज करने वाले शासकों की चार पीढ़ियों का शासन समाप्त होने को स्मरण करते हुए कहा, ‘‘मुझे दिल्ली में लोग कहते हैं कि दिल्ली की एक विशेषता है। सतयुग देख लो, त्रेतायुग देख लो, मुगल सल्तनत देख लो, कहते हैं दिल्ली को एक ऐसा श्राप है कि किसी की कितनी ही सल्तनत बड़ी क्यों न हो, लेकिन चौथी पीढ़ी आने के बाद वह समाप्त हो जाती है। चौथी पीढ़ी के आगे किसी का कुछ बचता ही नहीं है। कांग्रेस का भी वही हाल हुआ है। वह अब चौथी पीढ़ी पर अटकी हुई है, अब बचने वाली नहीं है।’’।



उन्होंने देश के 1.25 करोड़ लोगों को अपना परिवार बताते हुए कहा, ‘‘आपके पुरषार्थ और संकल्प से मैं जुड़ा हुआ हूं। आप 10 घंटे तो मैं 11, आप 14 घंटे तो मैं 15 घंटे काम करूंगा। परिवार का मुखिया जिस प्रकार परिवार की भलाई के लिये अपने आप को खपा देता है, मैं भी 1.25 करोड़ देशवासियों के अपने परिवार की भलाई के लिये पल-पल, तिल-तिल अपने आप को खपाता रहा हूं और मैं उसमें कमी नहीं आने दूंगा। इस बात का आपको विश्वास दिलाता हूं।’’

उन्होंने सवाल किया कि क्या 55 साल में कांग्रेस को सूरज नहीं दिखा। कांग्रेस के 55 साल के शासन काल में प्रदेश में केवल 30 मेगावाट ग्रीन एनर्जी का उत्पादन होता था जबकि भाजपा के 15 साल के शासन काल में 4000 मेगावाट नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादित होने लगी है।





Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment